.
Skip to content

है केवल काश्मीर नहीं, सिर मुकुट है भारत का वो…

अरविन्द दाँगी

अरविन्द दाँगी "विकल"

कविता

March 30, 2017

है केवल काश्मीर नहीं,
सिर मुकुट है भारत का वो…
कोई टुकड़ा पुश्तेनी नहीं,
अविभाज्य अंग है भारत का वो…
पत्थर ईंटो से न पाटों उसको,
धरती का स्वर्ग कहलाता है वो…
वैमनस्य ईर्ष्या में न उसे धकेलो,
भारत से जुड़ प्यार जताता है वो…
अंग पाक का न कहो उसे तुम,
निष्पक्ष भारत में विलय चाहता था वो…
राजनीतिक स्वार्थ उससे न तुम साधो,
सफ़ेद सत्य की चादर ओढ़े रहता है वो…
भटकाये है युवा वहा के,
अलगाववादियों की गिरफ़्त में है वो…
औरो के लड़कों को हथियार बनाके,
खुद की संतानें अमरीका यूरोप भेजते है वो…
काश्मीर की ही पैदाइश होकर,
उसीको घायल करते है वो…
दो झंडे की कोई चाहत न उसको,
हर हृदय तिरंगा चाहता है वो…
है केवल काश्मीर नहीं,
सिर मुकुट है भारत का वो…

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी “विकल”

Author
अरविन्द दाँगी
जो बात हो दिल की वो कलम से कहता हूँ.... गर हो कोई ख़ामोशी...वो कलम से कहता हूँ... ✍अरविन्द दाँगी "विकल"
Recommended Posts
पत्थरबाजों  की  सेना
"पत्थरबाजों की सेना तुम , कान खोलकर सुन लो आज ! काश्मीर तो है भारत का , बात मान लो ये तुम आज ! भारत... Read more
-वो भारत देश हैं मेरा, जिस पर जन्म लेकर किया मैंने सवेरा।
वो भारत देश हैं मेरा, जिस पर जन्म लेकर किया मैंने सवेरा। वो अनोखा भारत भू हैं मेरा,, उस पर किया मैंने रंग सवेरा,, आँखों... Read more
काश्मीर का प्रत्युत्तर
सारी रात और आधा दिन सोचने के बाद इस कविमन "विकल" ने काश्मीर का एक प्रत्युत्तर सोचा है साहब... अगर अच्छा लगे कि "अरविन्द" ने... Read more
कहाँ है वो भारत
कहाँ है वो भारत सोने की चिडि़या। कहाँ वो संस्कृति ललायत थी दुनिया। कहाँ वो देव भूमि राम और कृष्ण की कहाँ वो राजनीत सेवा... Read more