हैं कोई

मेरे ख्वाबों में आकर मेरी रात बिगाड़ता है कोई ,
आँखों में आँख डाल कर जैसे निहारता है कोई ।

मैं जब भी तेरे पास आता हूं …ऐसा लगता है
तेरी जुल्फ़े संवारता है कोई ।

ये इश्क़ है या है कोई खेल ,
रोज यहाँ आकर दिल हारता है कोई ।

तुम्हें जब – जब देखता हूं इस जमीं पर ..
शिकायत बस यही होती है , ऐसे जमीं पे चाँद उतारता है कोई ।

हम ‘ हसीब ‘ है हमें वही रहने दो ,
आप , तुम , ये , वो करके पुकारता है कोई ।

यू खुले जुल्फ़ लेकर छत पर टहला ना करो ..
देखते देखते ऐसे निहारता है कोई ।

वक़्त की भी कोई साजिश लगने लगी है आजकल ,
दिन-रात ऐसे कभी जागता है कोई ।

मेरे दोस्त आजकल कह रहे तू शरीफ़ सा हो गया ,
भला ऐसे भी किसी को सुधारता है कोई ।

मुझे देखने के लिए थोड़ा शर्माया भी करो ,
यू आँखों को ऐसे फारता है कोई ।

हा है प्यार मगर ये तो नही ,
प्यार में ऐसे भी मारता है कोई ।

:-हसीब अनवर

Like 2 Comment 0
Views 93

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing