सुख सुन्दर संसार करो

हे राम जगत के सूत्रधार
जगती पर उपकार करो हे !

दिशा-दिशा में धरा-व्योम में
कण-कण में और रोम-रोम में
बसते हो परिपालक बनकर
अपने जन से प्यार करो हे !
हे राम जगत के सूत्रधार
जगती पर उपकार करो हे !

विषम विपत्ति घर के द्वारे
विचर रही है हाथ पसारे
संकट के उद्धारक बनकर
सुख सुन्दर संसार करो हे !
हे राम जगत के सूत्रधार
जगती पर उपकार करो हे !

तुम पर तो विश्वास अटल है
मन अपराजित और सबल है
धरती का सूनापन हरकर
फिर इसका श्रृंगार करो हे !
हे राम जगत के सूत्रधार
जगती पर उपकार करो हे !

अशोक सोनी
भिलाई

2 Comments · 10 Views
पढ़ने-लिखने में रुचि है स्तरीय पढ़ना और लिखना अच्छा लगता है साहित्य सृजन हमारे अंतर्मन...
You may also like: