Apr 5, 2017 · गीत

हे !राम सच्चिदानंद

हे सीतानाथ कौशल्यानंद
दशरथ के प्राण करुणा निधान ।
लक्ष्मण के तात शत्रुघ्न साथ
करो दया दयामय दीनबन्धु ।।

कण कण में व्याप्त हे सुखराशि
अविगत अनादि हे अविनाशी ।
हे जगतपिता हे परमेश्वर
हे राम बनो मम उर वासी ।।

हे करुणा सागर सुखनिधान
दीनों के नाथ हे दीनबंधु ।
हम दीनो पर तुम दया करो
तर जाएँ पार करें सिंधु ।।

हे । राम सच्चिदानंद रूप
हे रावनारि हे जगताधीश ।
है कोटि नमन त्व चरणों में
हे दुखहर्ता हमें दें आशीष ।।

रामनवमी के पुनीत पावन पर्व की
मंगलमयी शुभकामनाओं सहित
सुनील सोनी “सागर”
चीचली(म.प्र.)

109 Views
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में...
You may also like: