Skip to content

हे पुरुष मानसिकता बदल लो

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

August 12, 2016

हे पुरुष मेरी तुझसे हाथ जोड़ कर इतनी सी विनती है।
मानसिकता बदल ले तू अगर तेरी देवताओं में गिनती है।

मेरी ही कोख से तूने जन्म लिया।
मेरी ही छाती का तूने दूध पिया।
मेरे राखी के धागे को कलाई पर बँधवा कर
तूने मेरी रक्षा करने का वचन दिया।
मुझ संग सात फेरे लेकर अपना घर आबाद किया।
फिर भी तुझे नारी उपभोग की वस्तू क्यों दिखती है?

कोई तुम्हारे घर की नारी को तंग करता है।
आते जाते रास्ते में उन्हें देख आहें भरता है।
उनसे बात करने के लिए, उन्हें अपने झूठे
प्रेम जाल में फंसाने के लिए घूमता है।
जब उन पर कोई अश्लील फब्तियाँ कसता है।
उस समय ही तेरी आत्मा क्यों चीखती है?

जब दुसरे घर की नारी छेड़ी जाती है।
तुम को कमी उस नारी में ही नजर आती है।
फिर तुम कहते हो कि संभल कर नहीं चलती,
मोबाइल रखती है, खुद ही बचना नहीं चाहती है।
ढंग से कपड़े न पहनकर शरीर को दिखाती है।
दोष होता है तुम्हारा, आजादी मेरी क्यों छिनती है?

मेरे रास्ते बदलने से क्या समस्या खत्म हो जाएगी।
क्या दुसरे रास्ते वालों की नियत खराब नहीं पाएगी।
सब कुछ मैं ही करूँ, मैं ही बदलूं अपने आपको,
तुम्हें तुम्हारी घटिया सोच बदलने में शर्म आएगी।
झूठ नहीं तुम्हारी लगाई आग तुम को ही जलाएगी।
भूल गये तुम से ही तुम्हारी आने वाली पीढ़ी सीखती है।

बुर्के में जो होती है वो तो अंग प्रदर्शन नहीं करती।
एक पांच सात साल की बच्ची मोबाइल नहीं रखती।
फिर भी उनका बलात्कार कर देते हो तुम पुरुष,
उनकी पुकार नहीं सुनाई देती जो चिल्लाती है डरती।
सोच बदल कर देखो स्वर्ग से सुंदर बन जाएगी धरती।
विचार करना हे पुरुष “”सुलक्षणा”” सच ही लिखती है।

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
]]]]] नारी तू पृथ्वी की धुरी है [[[[[
नारी तू पृथ्वी की धुरी है नारी तू जग की संचालिका है। नारी तू संस्कृति की संवाहिका है। नारी तू सभ्यता की समृद्धिका है। नारी... Read more
मेरी  लाडली  तेरा  महकना  आरज़ू  मेरी
suresh sangwan गीत Dec 11, 2016
मेरी लाडली तेरा महकना आरज़ू मेरी तू जन्नत की हूर है मेरी आँखों का नूर है मेरी लाडली तेरा महकना आरज़ू मेरी तेरी किल्कारियों ने... Read more
एक मुठ्ठी भर ख्वाहिश थी तुझे पाने की
एक मुठ्ठी भर ख्वाहिश थी तुझे पाने की। अब तो आदत सी हो गयी है क़िस्मत को भी रूठ जाने की। अब हर कदम पर... Read more
मुद्दा तीन तलाक का
मुद्दा तीन तलाक का,हुए वहां सब मौन ! पीडा नारी की यहाँ,समझेगा फिर कौन !! नारी की करता नही ,इज्जत जहां समाज ! वहां सफल... Read more