.
Skip to content

हे गुरुवर तुम्हे प्रणाम

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

कविता

September 5, 2017

हे गुरुवर तुम्हे प्रणाम

***

तुम हो प्रबुद्ध, मनीषी
शास्त्र, बोध के धोतक
तुम जग के शिल्पकार
हे गुरुवर तुम्हे प्रणाम !!

संचित कर बुद्धि विवेक से
जीवन करते आलोकित
शास्रोक्त, यथार्थ,अशिष्ट
मार्ग दिखा करते परोपकार
हे गुरुवर तुम्हे प्रणाम !!

मातृ-पितृ में वास तुम्हारा
देवो से उच्च स्थान तुम्हारा
शरण तुम्हारी जो है आता
कर जाता वो भव-सागर पार
हे गुरुवर तुम्हे प्रणाम !!

***
डी के निवातिया

***

मेरे जीवन में आने वाले उन सभी अग्रज व् अनुज भद्रजनो को महान शिक्षाविद डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी के जन्म दिवस को समर्पित शिक्षक दिवस की ढेरो शुभकामनाये और कोटिश नमन करता हूँ जिनके माध्यम से मुझे सैदव जीवन मे कुछ न कुछ सीखने का अवसर मिला !!

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
पूज्यवर गुरुवर तुम्हें प्रणाम!
पूज्यवर गुरुवर तुम्हें प्रणाम! खोलो नव आयाम --- घनघोर अंधेरा है प्रभु ज्ञान का दीप जलाओ--- प्रभु अर्जुन भटक रहा है ! प्रभु तुम कृष्णा... Read more
गुरु-वन्दना
शिक्षक दिवस पर विशेष गुरु -वन्दना हे गुरुवर तम्हें शत-शत प्रणाम , तुम ज्ञानालोक सत्पथ के धाम।।हे गुरुवर......... अज्ञान तिमिर बिनाशक तुम, दुर्बुद्धि कुमार्ग के... Read more
मै तुम्हे कैसे बताउ/मंदीप
मै तुम्हे कैसे बताऊ/मंदीप है तुम से कितनी चाहत मै तुम्हे कैसे बताऊ। करता दिल मेरा अपने आप से बात तुम्हारी मै तुम्हे कैसे बताऊ।... Read more
गुरुवर तुम्हें नमन है
जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम . जिसने सिखाया हमको , कविता ,ग़ज़ल -कलाम . समझाया जिसने हमको , दीने -धरम ,ईमान . जिसने... Read more