.
Skip to content

हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

कविता

February 19, 2017

?क्यो बेटी पराई हो गई?
हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई|
बचपनसेपाला है जिसकोअब बही पराई होगई||
????
तू कैसा निर्दयी है भगवन बेटी से जुदाई हो गई|
बेटे को पराया करता तू क्यो बेटी पराई हो गई||
????
हाय किस्मतफूटीजान गई दुनिया येकैसेमानगई|
जो दिलका मेरा टुकड़ा है वोही तो पराई होगई||
????
मां रोती बिलक बिलक के बेटी बिदाई हो गई |
मेरे प्यारे बेटे की भी अब सूनी कलाई हो गई||
????
ना तेरे दिल होगा भगवन ना तेरे प्यारी बेटी है|
जिस के बेटी बो जाने क्या बेटी बिदाई हो गई||
????
बेटी बिन की हे भगवन अब गोदी खाली हो गई|
क्यो पराई हो गई  क्यो बेटी बिदाई हो गई||
????
तूने श्रृष्टि की रचना की फिर ये क्यो पराई हो गई|
हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई||
कृष्णकांत गुर्जर

Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303
Recommended Posts
** बेटी का दर्द **
Neelam Ji कविता Jun 24, 2017
नई उम्मीदें नए सपने संजोती बेटी । शादी होकर जब ससुराल जाती बेटी ।। जन्मजात रिश्तों से दूर हो जाती बेटी । बहू बनते ही... Read more
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
क्यो बेटी मारी जाती है
हे माँ बतला इक बात मुझे,क्यो बेटी मारी जाती है| कल माँ भी तो बेटी थी माँ ,फिर क्यो जिंदा रह जाती है|| बेदो मे... Read more
( बेटी )
( बेटी ) क्या मेरा हैं कसूर तू बता दे मेरी माँ कही गड्ढे में कही नाली में क्या यही हैं मेरी पहचान माँ मेरी... Read more