हुनर जांबाज दे जाना

एक ग़ज़ल
★★★★
विरासत में उड़ानों का मुझे हर राज दे जाना।
अधूरे ख्वाब जो छूटे वही सब आज दे जाना।।
★★★★
समय की चाल से आगे भला जाता कहाँ कोई।
समय के साथ चलने की मुझे परवाज दे जाना।।
★★★★
नहीं दौलत मुझे होना रखी जो है तिजोरी में।
रखूँ ऊँचे विचारों को सही अंदाज दे जाना।।
★★★★
बुजुर्गों ने बनाए जो नियम उत्थान पीढ़ी के।
दुआ के साथ ही उत्थान के ये काज दे जाना।।
★★★★
चहेता बन रहूँ दिल में सभी के जीत कर दिल को,
दिलों को जीतने वाले मुझे अल्फाज दे जाना।।
★★★★
सुनो हे जन्म के दाता कपे गर लफ़्ज ये मेरे।
मेरे कपते हुए हर लफ़्ज को आवाज दे जाना।।
★★★★
रखूँ जिंदा जमाने में हजारों साल तक #जय को,
सफल होने सबर औ इक हुनर जांबाज दे जाना।।
★★★★
संतोष बरमैया #जय

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 0

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share