.
Skip to content

हुए बुद्ध सिद्धार्थ

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

May 10, 2017

बरगद नीचे बैठ कर, हुए बुद्ध सिद्धार्थ !
अर्जित सच्चे ज्ञान से,किया खूब परमार्थ !!

नफरत से होती नही,नफरत कभी समाप्त !
मानवता का पाठ यह,.हुआ बुद्ध से प्राप्त!!

बातें करते बुद्ध की,रखें नही सदभाव !
कैसे होगा दूर फिर,दुनिया से अलगाव ! !
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
वो बुद्ध कहलाया ...
वो बुद्ध कहलाया ... दुःख-दर्द,खुशी, सांसारिक व्याधियों के कोलाहल में आडंबर भरे संसार में झूठे दिखावटी प्यार में भौतिक रिश्तों के व्यापार में जो निर्लिप्त... Read more
प्रतीत्यसमुत्पाद
आज ऐसा कोई भी इंसान नहीं, जिसको कोई दुःख ना हो। हर एक को कोई ना कोई दुःख अवश्य है। आखिर दुःख का स्वरूप क्या... Read more
ग़ज़ल
किसी को बातो से बहलाना नही मुश्किल। रूठें किसी अपने को मनाना नही मश्किल। अपनी खूबियों व अंदाज-ए-फ़न से। किसी के दिल में उतर जाना... Read more
? बुद्ध पूर्णिमा की अनंत शुभकामनाएं ?
महात्मा बुद्ध धर्म नीति न्याय प्रीति के अनौखे सार को। लुंबिनी पावन हुई पाकर परम् अवतार को। जन्म माया ने दिया माँ गौतमी ने प्यार... Read more