Skip to content

हुई मुहब्बत श्याम से

arti lohani

arti lohani

कविता

October 3, 2017

सब काम हुए आराम से ।
जब मुहब्बत हुई श्याम से ।।
कैसे कहूँ मैं व्यथित बहुत हूँ।
तुम बिन मैं विचलित भी बहुत हूँ
कब से पुकारूँ ओ मेरे प्रियतम।
मीरा सी बन जाऊं जोगन।
मिल जाऊं मैं तो श्याम से ।

उद्धव को ज्ञान बहुत था।
अपने पे अभिमान बहुत था।
जब प्रीत का पाठ पढ़ाया।
सुध-बुध खोकर फिरता रहता।
दंभ जो तोडा श्याम ने।

कुंज-गलीं में फिरता रहता।
राधा संग है रास रचाता।
वृंदा से वो प्रीत निभाए।
ग्वालिन को भी नाच नचाये।
आलिंगन कर जमुना जी को।
प्रीत निभाता श्याम तो।।

Share this:
Author
arti lohani
Recommended for you