.
Skip to content

हुआ नहाना ओस में

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

January 30, 2017

रिश्ता नाजुक प्यार का, ज्यों प्रभात की ओस !
टिके न ज्यादा देर तक, व्यर्थ करे अफ़सोस!!

हुआ नहाना ओस में ,.तेरा जब जब रात !
कोहरे में लिपटी मिली,तब तब सर्द प्रभात !!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
ओस
पिघला चाँद टपका बूंद बूंद बन के ओस करें श्रृंगार कमसिन कली का ओस के मोती कातिल सूर्य कोहरे ने बचाई ओस की जान नोचे... Read more
आई है ऋतु प्रेम की.(नव बसंत)
सरस्वती से हो गया ,तब से रिश्ता खास ! बुरे वक्त में जब घिरा,लक्ष्मी रही न पास !! ............................ जिसको देखो कर रहा, हरियाली काअंत... Read more
हाइकु : ओस प्रसंग
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ~•~•~•~•~•~•~•~•~ हाइकु : ओस प्रसंग 01. भोर का बिम्ब पंखुड़ी बन गई ओस प्रसंग । ---0--- 02. कविता प्यारी हरी पत्तियों... Read more
मोती बनते  ओस के , जब रोती है रात
मोती बनते ओस के , जब रोती है रात पी लेता सूरज उन्हें , समझ एक सौगात समझ एक सौगात,रहे व्याकुल गर्मी से संध्या में... Read more