"हिसाब"

“हिसाब”
——————-
हिसाब—-?
क्या——-?
मुझे सब है पता,
हाशिये पर ,
होगा सिर्फ़ /मेरा नाम।
देनदारियाँ होंगी
सारी की सारी,
सिर्फ़ मेरे /नाम ;
भरे होंगे हाशिये ।
चुकाऊँगा सब;
रहूँगा सिर्फ़
हाशिये पर।
हिसाब नहीं ,
करुंगा कभी।
कभी भी नहीं ।
—————-
राजेश”ललित”शर्मा
२८-१२-२०१६
११:२०
——————–

Like Comment 0
Views 7

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share