हिन्दू एकता

याद करो सन सेतालिस को अंग्रेजों ने भारत छोड़ा ।
नाम दे दिया आजादी का इसी नाम पर देश को तोड़ा ॥
पंडितजी ने शुरू करी थी राजनिती यह जातिवाद की ।
नाम दे दिया पकिस्तान और नींव रखी आतंकवाद की ॥
जातिवाद और राजनिती बस यहीं तो करने हम आये थे ।
माईनोरिटि के नाम पर अपनी जेबें भरने हम आये थे ॥
खुले आम आतंकी पाले नाम दे दिया जातिवाद ।
साठ साल तक देश को लूटा करते रहे देश बरबाद ॥
भारत की बहू संख्यक जाति एक कभी नहीँ हो सकती है ।
तब भी पता था अब भी पता है जीत इसी से मिल सकती है ॥
हिन्दू ही हिन्दू का दुश्मन एक कभी यह हो नहीँ सकता ।
जिस दिन हिन्दू एक हो गया आतंकी देश में रह नहीँ सकता ॥

विजय बिज़नोरी

Like Comment 0
Views 527

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing