.
Skip to content

हिन्दुस्तानी है हिन्दी

kalipad prasad

kalipad prasad

कविता

September 18, 2016

आओ बच्चों तुम्हे पढ़ायें, सच्चे जीवन की बातें
पढ़ते जाओ लिखते जाओ, पढ़कर ही आगे जाते |
भारत गौरव गाथा गाओ, मिलकर नन्हे सब बच्चे
लय में मिठास कोयल जैसा, दिलों में भावना सच्चे ||

देवनागरी लिपि में हिन्दी, भाषा है अपनी प्यारी
तुम जैसा लिखो वैसा पढो, विशेषता इसकी न्यारी |
हँसते गाते सीखो इसको, सहज सरल है यह हिन्दी
छोड़ो गैर देश की भाषा, हिन्दुस्तानी है हिन्दी ||

मत छोड़ो तुम अपनी भाषा, पर हिन्दी को भी सीखो
हर भाषा की तहज़ीब अलग, सब तहजीबों को जानो |
दिल है विशाल जिसका जग में, कुटुंब दुनिया धानी है
भेद भाव भूलाकर बोलो, हम सब हिन्दुस्तानी हैं ||
©कालीपद ‘प्रसाद’

Author
kalipad prasad
स्वांत सुखाय लिख्ता हूँ |दिल के आकाश में जब भाव, भावना, विचारों के बादल गरजने लगते हैं तो कागज पर तुकांत, अतुकांत कविता ,दोहे , ग़ज़ल , मुक्तक , हाइकू, तांका, लघु कथा, कहानी और कभी कभी उपन्यास के रूप... Read more
Recommended Posts
मैं हिंदी -हिन्दी
मैं हिंदी - हिंदी ✍✍✍✍ मै हिन्दी हिन्दी गाऊँ विश्व गुरू कहलाऊँ मै हिन्दी हिन्दी गाऊँ कुछ कह कर इतराऊँ मैं हिन्दी हिन्दी ------- मैं... Read more
आओ सिपाही हिन्दी के
आओ सिपाही हिन्दी के, हिन्दी के लिए बलिदान करें। हिन्दी है भाल तिलक जैसी, हिन्दी का वही सम्मान करें। निज भाषा के लिए अगर, तुमने... Read more
हिन्दी
मस्तक का चन्दन है हिन्दी . माथे की बिंदी है हिन्दी. पहचान हिन्द की है हिन्दी. आम-आदमी की भाषा भी है हिन्दी. भारत की संस्कृति... Read more
मन की अभिलाषा
हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा। स्‍वाभिमान की है परिभाषा। गंगा जमनी जहाँँ सभ्‍यता, पल कर बड़ी हुई है भाषा। संस्‍कृति जहाँँ वसुधैवकुटुम्‍बकम्, हिन्‍दी संस्‍कृत कुल... Read more