Sep 18, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

हिन्दुस्तानी है हिन्दी

आओ बच्चों तुम्हे पढ़ायें, सच्चे जीवन की बातें
पढ़ते जाओ लिखते जाओ, पढ़कर ही आगे जाते |
भारत गौरव गाथा गाओ, मिलकर नन्हे सब बच्चे
लय में मिठास कोयल जैसा, दिलों में भावना सच्चे ||

देवनागरी लिपि में हिन्दी, भाषा है अपनी प्यारी
तुम जैसा लिखो वैसा पढो, विशेषता इसकी न्यारी |
हँसते गाते सीखो इसको, सहज सरल है यह हिन्दी
छोड़ो गैर देश की भाषा, हिन्दुस्तानी है हिन्दी ||

मत छोड़ो तुम अपनी भाषा, पर हिन्दी को भी सीखो
हर भाषा की तहज़ीब अलग, सब तहजीबों को जानो |
दिल है विशाल जिसका जग में, कुटुंब दुनिया धानी है
भेद भाव भूलाकर बोलो, हम सब हिन्दुस्तानी हैं ||
©कालीपद ‘प्रसाद’

23 Views
Copy link to share
kalipad prasad
82 Posts · 9.3k Views
Follow 1 Follower
स्वांत सुखाय लिख्ता हूँ |दिल के आकाश में जब भाव, भावना, विचारों के बादल गरजने... View full profile
You may also like: