कविता · Reading time: 1 minute

हिन्दी हिन्दुस्तानी

बन जाए हिन्दी राष्ट्र और जन -जन भाषा ।
दयानंद, सावरकर, तिलक की यही आशा ।।

सदा से हमारे राष्ट्र नायकों ने किया प्रयास ।
हिन्दी हिन्दुस्तानी है तब जगी यह अभिलाष ।।

एक छोर से दूसरे छोर तलक बोली जाए ।
गीत प्रेम के मधुर इसमें ही हर जन है गाए ।।

समुदाय, प्रान्त ,जातियों में जगाए भाईचारा ।
बिना जिसके लगता हो तन मन यह हारा ।।

संस्कृत सब भाषाओं की जननी कहलाती ।
जिससे निकल भाषा बोली पंख फैलाती ।।

देखो हिन्दी की हरियाली दूर दूर लहराए ।
ज्यों पैर में पायल पहन चंचल बाला इतराए ।।

हिन्दी हो आसीन यह लीग को स्वीकार नहीं ।
पर हमको भी पसंद उर्दू का व्यवहार नहीं ।।

न मुस्लिम रूठे न हिन्दू भाषा दोनों का मेल ।
सत्तारूढ़ कांग्रेस ने रचा था ऐसा तब खेल ।।

हिन्दी उर्दू के सम्मिश्रण वाली हो ऐसी भाषा ।
वतन को बांध रखे ऐसी करते है अभिलाषा ।।

सुशोभित की गई नागरी उर्दू लिपि लेखनी ।
आज जन जन की भाषा हिंदी हिन्दुस्तानी

21 Likes · 1 Comment · 67 Views
Like
Author
691 Posts · 69.6k Views
डॉ मधु त्रिवेदी शान्ति निकेतन कालेज आफ बिजनेस मैनेजमेंट एण्ड कम्प्यूटर साइंस आगरा प्राचार्या, पोस्ट ग्रेडुएट कालेज आगरा *************** My blog madhu parashar.blogspot.in Meri Dunia कोर्डिनेटर * राजर्षि टंडन ओपन…
You may also like:
Loading...