Skip to content

*हिन्दी भाषा*

Prashant Sharma

Prashant Sharma

कविता

September 13, 2017

विश्व की सारी भाषा जानो
सब की बाप तुम हिंदी मानो।
स्वामी जी ने भी रंग जमाया
अमेरिका में हिंदी को जगाया।

आत्मीय भाषा यह कहलाए
और अपनेपन का भाव जगाए।
भाव से शब्द पुकार के देखो
कि हृदय प्रेम सागर बन जाए।

हिंदुस्तान की शान है हिंदी
दादी मां की जुबान है हिंदी।
अरे मुन्ना मुन्नी रोज पुकारे
रिश्तो की पहचान है हिंदी।

गांव गांव का उत्थान हिंदी
और भारत का सम्मान हिंदी।
शिव डमरू की तान है हिंदी
संस्कृति की पहचान है हिंदी।

आपस का संवाद है हिंदी
मुखवाणी का साज है हिंदी।
कहां तक गाँऊ हिंदी की प्रभुता
जाे ओंकार में नाद है हिंदी।

*प्रशांत शर्मा “सरल”*
*नेहरू वार्ड नरसिंहपुर*
*मो 9009594797*

Author
Prashant Sharma
Recommended Posts
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more