.
Skip to content

हिन्दी दिवस : दोहे

Ambarish Srivastava

Ambarish Srivastava

दोहे

October 6, 2016

हिन्दी में धड़के हृदय, हों जब नैना चार.
‘आई लव यू’ छोड़कर, हिन्दी में हो प्यार..

‘स्वीटी’ ‘डार्लिंग’ ‘कर्णप्रिय’, अप्रिय बहनजी शब्द.
‘मैडम’ ‘मिस’ मन मोहते, ‘अम्बरीष’ निःशब्द..

डैडी जी हैं ‘डैड’ अब, मम्मी जी भी ‘मॉम’.
सिस्टर ‘सिस’ ‘ब्रो’ अब ब्रदर, पी अंग्रेजी जाम..

‘आई लव यू’ हो गया, ‘ईलू’ दुनिया दंग.
संबोधन छोटे हुए, ज्यों हों कपड़े तंग..

‘हेलो-हेलो’ था बोलता, प्रतिक्षण आठों याम.
‘ग्राहम बेल’ की प्रेमिका, ‘हेलो’ उसी का नाम..

‘हेलो-हेलो’ को बंद कर, करिए ऐसी युक्ति.
ग्राहम-हेलो को मिले, प्रेतयोनि से मुक्ति..

‘हेलो’ बने हरिओम अब, ॐ कहें यदि ‘हाय’.
‘बाय-बाय’ को छोड़कर, बोलें ‘नमः शिवाय’..

आया जब हिंदी-दिवस, उमड़ा तब है प्यार.
नित्य मनाते हम इसे, दिन में बीसों बार..

हिन्दी-हिन्दी जप रहे, भाषा करे प्रयाण.
रोजगार से जोड़िये, होगा तब कल्याण..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

(नोट: टेलीफोन के आविष्कारक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल की प्रेमिका का पूरा नाम जेनिफर-हेलो था)

Author
Ambarish Srivastava
30 जून 1965 में उत्तर प्रदेश के जिला सीतापुर के “सरैया-कायस्थान” गाँव में जन्मे कवि अम्बरीष श्रीवास्तव एक प्रख्यात वास्तुशिल्प अभियंता एवं मूल्यांकक होने के साथ राष्ट्रवादी विचारधारा के कवि हैं। प्राप्त सम्मान व अवार्ड:- राष्ट्रीय अवार्ड "इंदिरा गांधी प्रियदर्शिनी... Read more
Recommended Posts
मैं हिंदी -हिन्दी
मैं हिंदी - हिंदी ✍✍✍✍ मै हिन्दी हिन्दी गाऊँ विश्व गुरू कहलाऊँ मै हिन्दी हिन्दी गाऊँ कुछ कह कर इतराऊँ मैं हिन्दी हिन्दी ------- मैं... Read more
हिन्‍दी (दोहा-ग़़ज़ल)
आज हिन्‍दी दिवस है। इस अवसर पर हिन्‍दी-उर्दू एकता के लिए हमारी गंगो-जमन तहज़ीब की तरह हिन्‍दी-उर्दू अदबियत को समर्पित मेरी ताज़ा दोहा-ग़ज़ल- ****************************************** हिन्दी... Read more
*डार्लिग आई लव यू*
डार्लिंग आई लव यू* ********************* कल रात में चैन से सोया था अचानक खटिया हिलने लगी मैंने सोचा भूकम्प आ गया... मगर आँखे खोली तो... Read more
*** यू एण्ड मी  ***
यू एण्ड मी सम डिस्टेंस यू एण्ड मी फिजिकली नॉट स्पिरिचुअली आई नीड यू आई लाईक यू आई फील यू आई डील यू व्हाई यू... Read more