हिदायत

बहारें जब चली जायें ,निगाहें नम नहीं करना
गुलों की चाह में खोकर , मुहब्बत कम नहीं करना .

तड़प के टूटते दिल को , बहारों ने किया ज़ख्मी ,
सहेजे शूल जब गुल को , पड़ा मरहम नहीं करना.

न पलकें मूँदने दे , रात भर यादें तुम्हारी पर ,
मुहब्बत में जुदाई का , गिला हरदम नहीं करना

बहारें लौट आईं हैं, मुहब्बत कसमसाई है ,
बुझा के दीप चाहत के , सितम हमदम नहीं करना .

रहेगा इन लबों पे अब , तुम्हारा नाम ही हरदम ,
मिलन की चाह को दिल में , ‘अना’ मद्धम नहीं करना .

अनीता मेहता ‘अना’

Like Comment 0
Views 18

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share