Apr 2, 2020 · दोहे

हिचकी

हम थे इस गुमान में, कि याद वो अभी भी करते होंगे,
लेकिन एक ख़त तो छोड़ो, कम्बख़्त हिचकी भी ना आई।

2 Views
Iam fun loving, Love to read, love nature, like to adventures things.
You may also like: