.
Skip to content

हिंद का दिल रो रहा है, हँस रहे हम शूर बन/ हिंद कब तक ढोएगा दुख-बेबसी की गर्द को

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

शेर

February 26, 2017

बालश्रम करते दिखे हैं, कई तन मजबूर बन|
हिंद का दिल रो रहा है, हँस रहे हम शूर बन|

नग्न-भूखी बाल काया ,कह रही है दर्द को|
हिंद कब तक ढोएगा दुख-बेबसी की गर्द को|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
26-02-2017

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
** बन न जाए दास्ताँ **
Neelam Ji कविता Jul 24, 2017
जब रूह को रूह से होगा वास्ता , खुद ब खुद बन जाएगा रास्ता । अजनबी भी बन जाएगा अपना , शुरू हो जाएगी हसीन... Read more
तेरे बिन ये  दिल उदास सा रहता है
तेरे बिन ये दिल उदास सा रहता है दर्द नैन से चुपके चुपके बहता है रात गुजारी है बस रो रो कर तूने तेरी कहानी... Read more
हिंद का अवतार है हिंदी
हिंद की पुकार है हिंदी हिंद का सिंगार है हिंदी हिंद की प्राण है हिंदी हिंद की शान है हिंदी हिंद की पहचान है हिंदी... Read more
** हम जाने कब यहाँ से चले जायें **
*************** ????? ?????? हम जाने कब यहां से चले जाये ????? ??????? आपस में फिर बैर से छले जाये ?????? ?????? दुश्मनी दोस्ती से कब... Read more