.
Skip to content

हिंदी

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

कविता

September 14, 2016

“हिंदी”

विश्व में अद्वितीय है हिंदी
अभिव्यक्त का सागर है हिंदी
सबकुछ परिभाषित है इसमें
हर रिश्ते की मिठास है हिंदी

मेरे हृदय में बसी है हिंदी
मेरी शिराओं में बसी है हिंदी
मेरे देश के माथे की बिन्दी
मेरे देश की राष्ट्रभाषा है हिंदी

मेरा स्वाभिमान है हिंदी
मेरा आत्मसम्मान है हिंदी
परिचय कराया संसार से
मेरी पहचान है हिंदी ।

आमजन की भाषा है हिंदी
आमजन का आधार है हिंदी
एक दूजे से जुड़ने का साधन है
आमजन का गर्व है हिंदी

” सन्दीप कुमार “

Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती... Read more
Recommended Posts
विश्व हिंदी दिवस पर
हिंदी मेरे देश की, मोहक मधुर जुबान ! इसका होना चाहिए, दुनिया में उत्थान !! हिंदी के हर शब्द में,छिपा हुआ है ज्ञान ! इसका... Read more
मेरी सुबह हो तुम, मेरी शाम हो तुम! हर ग़ज़ल की मेरे, नई राग़ हो तुम! मेरी आँखों मे तुम, मेरी बातों मे तुम! बसी... Read more
मेरी बेटी - मेरा वैभव
कविता मेरी बेटी - मेरा वैभव - बीजेन्द्र जैमिनी मेरी बेटी मेरी शान मेरी आनबान मेरी है पहचान मेरी बेटी - मेरा वैभव मेरी बेटी... Read more
मेरी हर नज़्म की शुरुआत हो तुम
पानी में घुलनशील जैसी कोई पदार्थ हो तुम मेरे दिल में बसी मेरे जज़्बात हो तुम मेरा दिन मेरा रात हो तुम खिलखिलाते फूलों की... Read more