हिंदी

हिंदी मेरा हृदय और तन भारत वर्ष पियारा है|
देश-प्रेम की पृष्ठभूमि पर जीना धर्म हमारा है|

गुजराती, पंजाबी, सिंधी ,बुंदेली, श्रंगार अपुन|
राग नशा को त्याग पूर्वी हो हिमगिरी उद्गार-सु धुन|
नहीं किसी से बैर, कूकती कोयल से मन हारा है|
देश-प्रेम की पृष्ठभूमि पर जीना धर्म हमारा है|

जाग विवेकानंद बनो औ हिंद देश का मान करो|
मातृभूमि के सजग सिपाही सदृश राष्ट्र में प्राण भरो |
सदा बने सद्ज्ञान -सु चोटी, मेटा उर- अँधियारा है|
देश- प्रेम की पृष्ठभूमि पर जीना धर्म हमारा है|

द्वंद रहे ना कोई सीखो, रचना प्रेम पुकार रही |
जन-जन की हिय- नायक बनकर हिंदी बहुत उदार रही|
सब मिल बोलो जय भारत माँ, हिंद प्रीति-गुरुद्वारा है|
देश -प्रेम की पृष्ठभूमि पर जीना धर्म हमारा है|
………………………………………………

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए”एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता
28-04-2017

“जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति का गीत
कृति प्रकाशित होने का वर्ष-2013
आई एश बी एन:978-93-82340-13-3
प्रकाशक-जे एम डी पब्लिकेशन नई दिल्ली
रचनाकार का नाम -बृजेश कुमार नायक
28-04-2017

Like Comment 0
Views 316

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing