Apr 30, 2017 · गीत
Reading time: 1 minute

हिंदी से प्यार करो

निज को सद् आचार करो औ प्रेमरूप त्योहार करो|
भारतवर्ष प्रगति पाएगा, तुम हिंदी से प्यार करो|

विश्व विजय की प्रबल साधना हमने की, सद्भाव भरा|
वह करते हैं सदा गालियाँ देकर मेरा घाव हरा|
सदा सु चिंतनरूप चेतना गहो, न निज मन क्षार करो|
भारतवर्ष प्रगति पाएगा, तुम हिंदी से प्यार करो|

दिव्य ज्ञान की सजग धरोहर से हमने उर को सींचा|
व्यर्थ झगड़ते हो तुम पकड़ो प्रीति-पंथ अतिशय नीका|
तुुम नव नायक हो स्वराष्ट्र के जागो! इक उपकार करो|
भारतवर्ष प्रगति पाएगा, तुम हिंदी से प्यार करो|

हमें हिंद से प्रेम है लेकिन नहीं ईर्ष्या औरों से|
झूठा पेट मत भरो मत प्यारे, अब तुम जूँठे कोरों से|
मातृधरणि की प्रबल साधना से सुरभित संसार करो|
भारतवर्ष प्रगति पाएगा, तुम हिंदी से प्यार करो|

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

दिनांक 30-04-2017

“जागा हिंदुस्तान चाहिए”कृति का गीत

184 Views
Copy link to share
Pt. Brajesh Kumar Nayak
158 Posts · 44.6k Views
Follow 14 Followers
1) प्रकाशित कृतियाँ 1-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" काव्य संग्रह 2-"क्रौंच सु ऋषि आलोक" खण्ड काव्य/शोधपरक ग्रंथ... View full profile
You may also like: