Skip to content

हिंदी भाषा

ABHINAV KUMAR YADAV

ABHINAV KUMAR YADAV

दोहे

January 11, 2018

अंग्रेजी का हम पर असर हो गया।
हिंदी का मुश्किल सफ़र हो गया।
देसी घी आजकल बटर हो गया,
चाकू भी आजकल कटर हो गया।
अब मै आपसे इज़ाज़त चाहता हूँ
हिंदी की सबसे हिफाज़त चाहता हूँ।🙏

Share this:
Author
ABHINAV KUMAR YADAV
Electrical Engineer "कितने नाज़ुक मिजाज़ हैं कुछ मत पूछिये नींद नही आती है, धड़कन के शोर से।"
Recommended for you