.
Skip to content

हिंदी अपनी शान हो

हिमकर श्याम

हिमकर श्याम

दोहे

September 14, 2016

आज़ादी बेशक़ मिली, मन से रहे गुलाम।
राष्ट्रभाषा पिछड़ गयी, मिला न उचित मुक़ाम।।

सरकारें चलती रहीं, मैकाले की चाल।
हिंदी अपने देश में, उपेक्षित बदहाल।।

निज भाषा को छोड़कर, परभाषा में काज ।
शिक्षा, शासन हर जगह, अंग्रेजी का राज।।

मीरा, कबीर जायसी, तुलसी, सुर, रसखान।
भक्तिकाल ने बढ़ाया, हिंदी का सम्मान।।

देश प्रेमियों ने लिखा, था विप्लव का गान।
प्रथम क्रांति की चेतना, हिंदी का वरदान।।

हिंदी सबको जोड़ती, करती है सत्कार।
विपुल शब्द भण्डार है, वैज्ञानिक आधार।।

स्वर व्यंजन के मेल का, नहीं है कोई जोड़।
देवनागरी को कहें, ध्वनि शास्त्री बेजोड़।।

बिन हिंदी चलता नहीं, भारत का बाज़ार।
टी .वी., फिल्मों को मिला, हिंदी से विस्तार।।

भाषा सबको बाँधती, भाषा है अनमोल।
हिंदी उर्दू जब मिले, बनते मीठे बोल।।

सब भाषा को मान दें, रखें सभी का ज्ञान।
हिंदी अपनी शान हो, हिंदी हो अभिमान।।

हिंदी हिंदुस्तान की, सदियों से पहचान।
हिंदीजन मिल कर करें, हिंदी का उत्थान।।

© हिमकर श्याम

Author
हिमकर श्याम
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर http://himkarshyam.blogspot.in https://doosariaawaz.wordpress.com/
Recommended Posts
हिंदी
"हिंदी" विश्व में अद्वितीय है हिंदी अभिव्यक्त का सागर है हिंदी सबकुछ परिभाषित है इसमें हर रिश्ते की मिठास है हिंदी मेरे हृदय में बसी... Read more
जीवन का सार है हिंदी....
जीवन का सार है हिंदी हिंदुस्तानियों का अभिमान है हिंदी... भारत भूमि देवी सामान तो देवी का श्रृंगार है हिंदी.. जय हिंद की भाषा है... Read more
विश्व हिंदी दिवस पर
हिंदी मेरे देश की, मोहक मधुर जुबान ! इसका होना चाहिए, दुनिया में उत्थान !! हिंदी के हर शब्द में,छिपा हुआ है ज्ञान ! इसका... Read more
आए जिनको देश मे (दोहा मुक्तक)
आए जिनको देश मे,.....घोटाले ही रास ! ऐसों से यह देश भी, कभी न रखता आस !! किया जिन्होने आजतक,जमकर भ्रष्टाचार, वे ही करने लग... Read more