लेख · Reading time: 1 minute

हिंदी के अधिकार

हिन्दी की स्थिति उस अभागी नारी जैसी है जो अपने ही घर में बैंगानी है क्योंकि किसी परायी विदेशी नारी (इंग्लिश ) ने उसके अपने घर में डेरा जमा रखा है। इस विदेशी नारी को कौन बाहर का रास्ता दिखायेगा ? और कौन हिन्दी को उसका अधिकार और सम्मानीय उच्च स्थान दिलवाएगा ? कौन ?

4 Likes · 8 Comments · 34 Views
Like
Author
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक…
You may also like:
Loading...