कहानी · Reading time: 1 minute

हास्य:-हर रोज़ की है कहानी !

काम की तलाश थी,
बहुत जल्दी थी,
.
जल्दी पहुँचना था,
मैं तो नहीं पहुंच पाया,
कोई और पहुंच गया,
हररोज़ की कहानियां है,
नहीं है !
कोई सुधार की संभावना !
.
कोई लंगड़ा हुआ !
कोई दुनिया से विदा !
किसी को जेल !
किसी को फाँसी !
.
अब तक भी नहीं है !
सुधार की संभावना !
न जाने,
कब मिल पाएगी,
वक्त पर दो रोटी !
.
पहुँचना था जल्दी देर हो गई !
उसे भी जल्दी थी,
वेंटिलेटर पर था,
मुझे कम जल्दी थी,
मैं जेल में !
.
सब्र करो !
महेंद्र !
जल्दी भी क्या है !
थोड़ा कम लिखो !
पढ़ने में रस लेने वाले कहाँ है,
थोड़ा वर्क-लोढ़ अधिक है,
इतनी जल्दी भी क्या है ?
.
हररोज़ की है कहानी,
फिर भी है बेईमानी !

2 Likes · 1 Comment · 84 Views
Like
492 Posts · 45.1k Views
You may also like:
Loading...