.
Skip to content

हास्य -व्यंग्य कविता – कुत्ते की तिरछी दुम

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

कविता

October 14, 2016

कुत्ते की तिरछी दुम
————————-
पाँच वर्ष के वाद हैं आये नेता पोपटराम ,
सम्पत्ति और तोंद बढा ली करि करि खोटे काम ।
करि प्रणाम बोले अबकी हम को देना वोट ,
यदि हम अबकी बने विधायक हर जेब में होगा नोट ।
खुशहाली घर घर में होगी सड़क बिजली पानी ,
शिक्षितों को बेरोज़गारी भत्ता सुखी होगी जिन्दगानी ।
मुफ्त मोबाइल फोन मिलेगा कृषक ऋण होंगे माँफ ,
जो जो तुमको कष्ट मिले हैं सब हो जायेंगे साफ ।
रसोई गैस मुफ्त मिलेगी कन्याओं को मिलेगा धन ,
हर बेटी की होगी शादी चाहे हो वो निर्धन ।
जीवन के सन्ताप मिटेंगे ऐसा हमारा वादा ,
सबसे अच्छी सेवा करेंगे ऐसा हमारा इरादा ।
हाथी हाथ कमल साईकिल को याद न रखना तुम ,
हमारा चिह्न याद रखना ‘ कुत्ते की तिरछी दुम’ ।
डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज

Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।
Recommended Posts
चलो अबकी बार हटकर दिवाली मनाएं हम
चलो अबकी बार हटकर दिवाली मनाएं हम, शहीद जवानों के नाम एक दीया जलाएं हम। करने को रौशनी उन शहीद जवानों के घरों में, लगाकर... Read more
==अबकी बार यूं दीवाली मनाते हैं ==
आओ मनाएँ ऐसे अबकी दीवाली आओ मनाएँ ऐसे अबकी दीवाली। घर की सफाई तो सब करते हैं घर में खुशियों के रंग सब भरते हैं।... Read more
जंगली और पालतू कुत्ते की मित्रता  (व्यंग्य- कविता)
जंगल से इक आया कुत्ता । बूटी मुँह में दाबे कुत्ता । उसे देखकर भौंका कुत्ता । जंगल के फिर उस कुत्ते को, इस कुत्ते... Read more
सिर्फ और सिर्फ हम दोनों पर कविता
कितनी बार चाहा कि लिखूँ सिर्फ और सिर्फ हम दोनों पर ही कविता और खो जाएँ हम एक दूसरे के अन्तःकरण में इस तरह फिर... Read more