Skip to content

हास्य -कविता (सफलता का मन्त्र )

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

कविता

October 15, 2016

सफलता का मन्त्र
———————–
हमेशा बौस के आस-पास ही मंडराते रहिए ,
रटन्त तोते की तरह बौस के गुण गाते रहिए ।
हर काम को अपने ही पास रखिए ,
काम न होने की ओवरलोडिंग वजह खास रखिए
किसी भी काम के लिए कभी मनाह मत कहिये ,
किसी काम को वास्तव में करने का गुनाह मत करिए ।
हर काम की हमेशा खूब फिक्र कीजिए ,
काम करो न करो परन्तु खूब जिक्र कीजिए ।
वातें बनाने और बौस के गुण गाने के शिवाय कुछ मत करिए ,
और सब पर रौब जमाइये केवल बौस से डरिये ।
जब भी बौस दीखे तेल खूब मलिए ,
हमेशा बौस के ही पीछे -पीछे जरूर चलिए ।
बौस की हाँ में हाँ और ना में ना खूब मिलाईए ,
मौका मिले तो बौस के घर खूब जाइये ।
बौस के बच्चों से हमेशा खूब मिले रहिए ,
बिना टेंशन के हमेशा खूब खिले रहिए ।
बौस से हमेशा गिड़गिड़ाते हुए फरियाद रखिए ,
सफलता का ये मन्त्र हमेशा याद रखिए ।
:- डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज -:

Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।
Recommended Posts
*** मत, भेद रखिए ***
मतभेद रखिए मन भेद ना रखिए ज़िगर में जुदा हर शख्स है फिर भी रखिए ज़िगर में नज़र प्यार की रखिए जाइये ना फ़िगर पे... Read more
मत करिए उपहास
जिस पनघट के नीर से, सदा बुझायी प्यास ! उसका भूले से कभी, ...मत करिए उपहास !! कहाँ मिली हैं खूबियाँ, ...सभी किसी के पास... Read more
झुलस
धरती के झुलसते आँचल को अम्बर ने आज भिगोया है झूम उठे वायु संग तरुवर बूंदों में शीत पिरोया है ये महज़ एक झांकी है... Read more
शायद कभी हम जलाने के काम आए
गीत, गजल, कविता सुनाने के काम आए जब तक रहे 'काका' हँसाने के काम आए लकड़ी समझकर हमको रख दो चूल्हे के पास शायदी कभी... Read more