.
Skip to content

हासिल क्या ?

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

June 22, 2017

हासिल क्या ?
—————-

मेरे त्याग
और बलिदान से
हासिल क्या ?
हुआ मुझको !!
कभी मिली
दुत्कार मुझे !
तो कभी मिला
कुआँ मुझको !!
मैं छली गई !
अपनों के हाथों
कभी कामी ने
छुआ मुझको !!
कभी जिस्म बिका
बाजारों में……
कभी समझा गया
जुआ मुझको !!
कभी परणाकर
बचपन में ही
छोड़ा ना…..
युवा मुझको !!
सबके लिए
दुआ करती हूँ !
मिली कभी ना
दुआ मुझको !!
मैं नारी हूँ !
पर ! समझूँ अबला
हरदम से ही क्या ?
हुआ मुझको !!
—————————-
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”
============================

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
मैं यादों का कभी कभी जमाना ढूँढता हूँ! मैं ख्वाबों का कभी कभी तराना ढूँढता हूँ! जब खींच लेती है मुझको राह तन्हाई की, मैं... Read more
कभी कोई कभी कोई
जलाता है बुझाता है कभी कोई कभी कोई। मेरी हस्ती मिटाता है कभी कोई कभी कोई।।1 बुरा चाहा नहीं मैनें जहाँ में तो किसी का... Read more
मुक्तक
मुझको कभी मेरी तन्हाई मार डालेगी! मुझको कभी तेरी रुसवाई मार डालेगी! कैसे रोक सकूँगा मैं तूफाने-जख्म़ को? मुझको कभी बेरहम जुदाई मार डालेगी! #महादेव_की_कविताऐं'
मोहब्बत कैसे की जाती है....
????? मोहब्बत कैसे की जाती है, कोई बता दे मुझको । मैं उड़ता परिन्दा हूँ, कोई कैदी बना दे मुझको । इश्क क्या चीज है,... Read more