Skip to content

“. . . हाल गये ।”

Pradipkumar Sackheray

Pradipkumar Sackheray

गज़ल/गीतिका

March 14, 2017

( यह हास्य गज़ल हैं , इसमें इक तोतला प्रेमी अपने प्रेमिका से दिल का दर्द बयां कर रहा हैं ! . . . )

तेले प्याल में ज़ानू इसकदल हाल गये ।
बेमौत अपने – आप को ही हम माल गये ।

समज़ में नहीं आयी , थी ख़ता तेली या मेली ,
दूल कुछ पहले , कुछ बाद दोस्त – याल हुये ।

तुझे देवी बनाया मेले प्याल के मंदिल की ,
अब उसी घल – मंदिल के बियल – बाल हुये ।

क्यां कले ? इस के अलावा कुछ कल ना सका ,
हम तो भली ज़वानी में अब बेकाल हुये ।

युं आस थी तेले घल को ससुलाल बनाऊँ ,
तेले घल के माली तक से इनकाल हुये ।

इक हसलत थी की , तेली ड़ोली उठा लावु ;
अब अलमानों के अल्थी के कंधे चाल हुये ।

इस फ़कील के झोली से कैसें इलाज़ होगा ?
उस कातील निगाहों से गहले वाल हुये ।

व्यापाली बाप उसका दिल बेचने बैठा हैं ,
लगता हैं , अब तो चाहतों के बाज़ाल हुये ।

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Author
Pradipkumar Sackheray
Pr@d!pkumar $ackheray (The Versatile @rtist) : - Writer/Poet/Lyricist, Mimicry Artist, Anchor, Singer & Painter. . .
Recommended Posts
*** दीवाने हो गये हैं हम  ****
दीवाने हो गये हैं हम दीवाने हो गये हैं हम नहीं हैं हम किसी से कम जहां में दौलते हैं कम नहीं हैं अब किसी... Read more
दो पल संजो कर रख लिये थे; तुम्हारी याद के। आये तुम उनको उठा कर चले गये।। वक़्त ने फाहा रखा था ज़ख़्म पे। आये... Read more
कहाँ आ गए हम
ये कौन सी मंजिल,कहाँ आ गये हम. धरा है या क्षितिज,जिसे पा गये हम. ज़िंदगी के इस मोड़ पे मिले हो तुम, सारा जहाँ छोड़,तुम्हें... Read more
*ये वो क्या कर गये*
Sonu Jain कविता Nov 19, 2017
*ये वो क्या कर गये* अपने ही हाथों ख़ुद हाल बेहाल कर गये,, किसी का न हुआ आज तक वो इश्क करगये।। हद से गुजर... Read more