.
Skip to content

हाय ये फेसबुकिया ज्योतिषी

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

लेख

May 12, 2017

आजकल फेसबुक पर कई लोगों को बड़ा अजीब सा शौक चर्राया है जिसे देख कर कभी-कभी इतनी जोर की हँसी आती है कि शायद अगर वो व्यक्ति हमें ऐसे पागलों की तरह हँसते हुए देख ले तो फेसबुकवा चलाना छोड़ दे। बिलकुल सही समझा आपने, तो हम बात कर रहे हैं फेसबुकिया ज्योतिषी की, जो रात- दिन आपके बारे में नित नई भूतवाणी, वर्तमानवाणी और कभी कभी भविष्यवाणी भी कर देते हैं। मेरे कई फेसबुकिया मित्र इनके परमानेंट ग्राहक हैं जो रोज नई नई ऊपर लिखी वाणियों से हमें अचंभित करते रहते हैं। मुझे लगता है, कभी कभी उनको भी इन बातों पर विश्वास नहीं होता होगा पर खुश तो बहुत होते होंगे। अब आप ही बताओ ललिता पँवार जैसी दिखने वाली मुझ नाचीज़ को कोई यदि दीपिका पादुकोण बताएं तो किसे अच्छा नहीं लगेगा।

कल की ही बात है बहुत दिनों से व्यस्त होने के कारण कल जब फेसबुक देखा तो एक ऐसे सलमान खान को देखा कि यदि सलमान खुद उसे देख ले तो सुप्रीम कोर्ट में जाकर चिंकारा केस में खुद के लिए उम्र कैद मांग लें। भाई जिसने भी वो app बनाई है इतनी तो दया करना था कि थोड़ी बहुत सच्चाई भी दिखा देते। खामखाँ लोगो को सपने दिखा दिखा कर फूला रहे हो।

अब app का जादू देखिये कि मायावी दुनिया में कोई पता लगा रहा है कि उनके सबसे करीब कौन है तो कोई पिछले जन्म में वो क्या थे? कोई इसी बात से खुश हो रहा है कि वो कितने % शरीफ हैं तो कोई इस बात से कि पिछले जन्म में कौन सा दोस्त उनका जीवन साथी था? कुछ तो इसी बात पर फ़ूल कर गोलगप्पे हुए जा रहे हैं कि उन्हें कुल जमा 10 अफेयर होंगे। अब वो खुश होये भी क्यों न, जिन्हें कोई लड़की देखना तक पसन्द नहीं करती उनके 10 अफेयर। और ये सब देखकर हम अपना सिर पीटते रह गये।

एक 65 साल की अधेड़ तो इसी बात पर स्वर्गवासी हो गई कि इस मुँए app ने उन्हें 16 साल की कमसिन कली बता दिया। link share करते ही सीधे स्वर्ग को सिधार गई। पर जाते जाते अपनी इस पोस्ट पर 1000 से ज्यादा likes भी पा गई। सहानुभूति का असर। शायद उसकी आत्मा इसी बात पर खुश होगी। ओम शांति।

यार हद होती है किसी भी बात की। अब क्या कोई फालतू सा app आपको बताएगा कि आपका कौन सा दोस्त आपके सबसे करीब है, आपके कितने दोस्त आपसे जलते हैं, आपकी माँ आपको कितना प्यार करती है या आप मोबाइल पर सबसे ज्यादा किससे बात करते हो?

मुँए app तुम कैसे पता लगाओगे बे कि पिछले जनम में मेरी शादी किससे हुई थी? कान खोल कर सुन लो मुझे जानना भी नहीं है। अपनी तो इसी जनम की नहीं सम्भल रही और तू पिछले की भी सिर बांध रहा है। और क्या कह रहा था तू कि दस साल बाद मेरा बैंक बैलेंस कितना होगा ये तू बताएगा। अबे इसमें कौन सी बड़ी बात है, अब फक्कड़ आदमी दस साल बाद भी फक्कड़ ही रहेगा न।

हाँ तो मुँए app कुछ तो शर्म करो। क्यों बेचारे ज्योतिषियों के पेट पे लात मार रहे हो बे। तुम्हें पण्डितों की बद्दुआ लगेगी कसम से। और थोडा हम पर भी रहम करो यार। लोगों को पूरा सच नहीं दिखा सकते तो पूरा झूठ भी तो न दिखाओ झूठे।

लोधी डॉ. आशा ‘अदिति’
बैतूल (म. प्र.)

Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....
Recommended Posts
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
मुक्तक
तुम राह अपनी बदलकर देख लो कभी! तुम चाह अपनी बदलकर देख लो कभी! हरपल बदल रही है तकदीर वक्त की, तुम आह अपनी बदलकर... Read more
मन की बातें मन ही जाने, कोई और समझ न पाये । कभी तन्हा, कभी गुमसुम बैठे , कभी तितली बन उड़ जाये। देख परिंदों... Read more
काले  बादल
काले बादल आज फिर से मेघ काले नाग से घिर-घिर हैं आने लगे। कभी मुग्ध, कभी दग्ध कभी भयावह, तो कभी नम्र कभी देते आँखों... Read more