हाइकू !

१.
प्रकृति आपदा

हर पल है
डरे मानव अब
बचाए कौन !

२.
असंतुलन
प्रकृति का प्रकोप
समझो अब !

३.
ये प्रदूषण
हरियाली सिमटे
पेड़ बचाओ !

कुप्रथा

१.
क्यूं रुढ़िवाद
करे खोखली जड़ें
पीड़ित कहें !

२.

बदलो उन्हें
बन बेड़ी जो यूंही
उन्नति रोके !

प्रिय की प्रशंसा

१.
तुम्हीं से अब
जीवन मेरा यह
भूल न जाना !

२.

ज़िन्दगी मेरी
अमानत तुम्हारी
न जुदा होना !

जीवन दर्शन

१.
दुनिया यह
जानते सब मगर
माया में फँसे !

२.
सुख औ दुख
मिश्रण जीवन का
संघर्ष बड़ा !

कामनी गुप्ता***
जम्मू !

Like 2 Comment 0
Views 9

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share