.
Skip to content

हाइकु

Arun Pradeep

Arun Pradeep

हाइकु

May 8, 2017

हाइकु

— अरुण प्रदीप

1
सूरज दादा
रथ पर सवार
वार पे वार

2

सावन बैरी
परदेशी साजन
गोरी बेमन

3

एकाकी मन
भगवत शरण
सुख दर्शन

4

धन संचय
तन मन विक्रय
दुख प्रश्रय

5

बीसों नाखून
आस्तीन के सांप
फैलाते विष

Author
Arun Pradeep
Though a science master by education, a tax collector by work did write in Hindi n English since 1970. Got published in print media since 1970 intermittently! Now a retired person, pursuing my hobby as writer!
Recommended Posts
झाँकता चाँद की समीक्षा
झांकता चाँद : (साझा हाइकु संग्रह) प्रकाशन वर्ष - जनवरी 2017 संपादक :प्रदीप कुमार दाश "दीपक" झाँकता चाँद-एक प्रतिबिम्ब सुनहरे कल का समीक्षक : सुशील... Read more
हाइकु
हाइकु जन बगीचा फूलों बना गलीचा मन है रीता 2 न कटी नाक नकटे की थी बात नेताई ठाठ 3 मंत्री था बाप बेटा कराता... Read more
हाइकु : जर्जर काया
हाइकु जर्जर काया, इच्छाएँ खंडहर, जीने को मरे नम नयन, गालों के सूखे आँसू, पुकारें तुम्हें ! छायी बदरी, व्याकुल फिर मन, गीला तकिया !... Read more
मइनसे के पीरा [छत्तीसगढ़ी हाइकु संग्रह की समीक्षा]
छत्तीसगढ़ी हाइकु संग्रह : मइनसे के पीरा : प्रदीप कुमार दाश "दीपक" छत्तीसगढ़ी का प्रथम हाइकु संग्रह : प्रकाशक - छ. लेखक संघ सरिया MAINSE... Read more