.
Skip to content

हाइकु

डॉ संगीता गांधी

डॉ संगीता गांधी

हाइकु

May 5, 2017

जीवन
*****
…………..

मन में क्षोभ
वेदना घनघोर
मृत्यु का ग्रास
……………….
आशा खंडित
गहन अवसाद
शव दर्शन
…………
आत्मा अमर
पुनः से आगमन
नव जीवन
……………..

हाइकु
मजदूर दिवस
—–
रिक्शा चालक
परिश्रम कठोर
प्राप्य पिघला स्वेद
–*******
झुग्गी जीवन
निर्धनता शाश्वत
नित अभाव
********
ग्राम की स्मृति
विवश पलायन
नियति खेल ।

Author
Recommended Posts
झाँकता चाँद की समीक्षा
झांकता चाँद : (साझा हाइकु संग्रह) प्रकाशन वर्ष - जनवरी 2017 संपादक :प्रदीप कुमार दाश "दीपक" झाँकता चाँद-एक प्रतिबिम्ब सुनहरे कल का समीक्षक : सुशील... Read more
****जल ही जीवन*****हाइकु कविता****
हाइकु कविता जल सबका जीवनदाता  | बिन जल मानुष | जीवन न पाता | ***** जल ही जीवन **** *जल ही जल रत्नगर्भा है स्वर्ग... Read more
हाइकु
हाइकु जल उफ़ ये प्यास चिलचिलाती धूप सूखे हैं कूप। बढ़ा संताप हैं ताकते आकाश जल की आस। नीर अमि सा मिश्री सा खरबूजा पेय... Read more
हवा: पाँच हाइकु
हवा: पाँच हाइकु // दिनेश एल० “जैहिंद” क्षिति, पावक, जल, नभ, समीरा लोक मिश्रण । पाकर वायु बढ़ती जंतु आयु है हवा प्राण । द्रव... Read more