Skip to content

“हाइकु”

Mahatam Mishra

Mahatam Mishra

हाइकु

December 11, 2017

“हाइकु”

कल की बात
आस विश्वास घात
ये मुलाक़ात॥-1

दिखा तमाशा
मन की अभिलाषा
कड़वी भाषा॥-2

दुर्बल काया
मनषा मन माया
दुख सवाया॥-3

मान सम्मान
शुभ साँझ बिहान
विहंगा गान॥-4

अपने गांव
शीतल नीम छांव
सुंदर ठांव॥-5

महातम मिश्र गौतम गोरखपुरी

Share this:
Author
Mahatam Mishra
Recommended for you