.
Skip to content

*हाइकु-माला

डॉ. हीरालाल प्रजापति

डॉ. हीरालाल प्रजापति

हाइकु

February 13, 2017

============
तन से काली ॥
पर हिय से वह –
शुभ्र दिवाली ॥
============
मेरी मंज़िल ॥
ग़ैर मुमकिन सा –
आपका दिल ॥
============
अति नव्य है ॥
सच ही घर तेरा –
अति भव्य है ॥
============
आ जा सजलें ॥
दुख से बचकर –
थोड़ा नचलें ॥
============
थक रहा हूँ ॥
पल दो पल भर –
रुक रहा हूँ ॥
============
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Author
Recommended Posts
मिलन के पल
प्रिय ! तुम्हारे साथ के वह पल या तुम्हारे बिना यह पल दोनों पल, कैसे हैं ये पल ? जला रहे हैं मुझे पल पल... Read more
झाँकता चाँद की समीक्षा
झांकता चाँद : (साझा हाइकु संग्रह) प्रकाशन वर्ष - जनवरी 2017 संपादक :प्रदीप कुमार दाश "दीपक" झाँकता चाँद-एक प्रतिबिम्ब सुनहरे कल का समीक्षक : सुशील... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
मैं चंचल हूँ मेघों के पार से आया करता हूँ ।
मैं चंचल हूँ, मेघों के पार से आया करता हूँ मैं चंचल हूँ , मेघों के पार से आया करता हूँ । मै अग्नि हूँ... Read more