Feb 23, 2021 · हाइकु

#हाइकु माला

#हाइकु माला

फ़ोटो खिंचेगी
ऊँचे दाम बिकेगी
तेरी ग़रीबी

भूखा उदर
बोझ है सर पर
स्मित अधर

ये कैसी माया
बचपन है खोया
भाग्य है सोया

बेबस पीर
देती कलेजा चीर
मन अधीर

कमर टूटी
हर आस भी छूटी
ज़िंदगी रूठी

देह दुर्बल
माँ निश्चय अटल
बच्चे सबल

ग़रीबी पास
निराशा का निवास
पलकों आस

है कुमल्हाया
फिर भी हंस पाया
माँ सरमाया

रेखांकन।रेखा

4 Views
दिल से दिलों तक पहुँचने हेतु बाँध रही हूँ स्नेह शब्दों के सेतु। मैं एक...
You may also like: