Skip to content

हवा

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गज़ल/गीतिका

December 28, 2016

बह रही अंदर हवा है ।
चल रही बाहर हवा है ।
वक्त के द्वारा जो चलतीं,
आँधियों का डर हवा है ।
एक हवा से दूसरी तक,
दिख रहा मंज़र हवा है ।
जो ख़ुदा तक जा रही है,
वो प्रेम की ख़ब़र हवा है ।
ज़िंदग़ी मिलती है जिससे,
साँस वह सुंदर हवा है ।
खिला दे जो मुग्ध कलियाँ,
सर्जना का हुनर हवा है,

Share this:
Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended for you