23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

हवाओं को सोता हूं

महकती हुई हवाओं के साथ सदा होता हूं मैं,
झोंका दुर्गंध का आता है तो बस रोता हूं मैं।
बूढ़ा बाप हूं तुम्हारा ये कांधे कभी नहीं हारेंगे,
यह मत पूछना कि इतना बोझा क्यों ढ़ोता हूं मैं।
कोई बुरा सपना भी कभी तुम्हें छू न ले इसीलिए,
सोता हूं , तो भी आंखें खोलकर ही सोता हूं मैं ।
श्री मैं चाहता हूं कि तुमको ताजा हवाऐं ही मिलें,
तुम्हारे वास्ते ही हर रोज हवाओं को बोता हूं मैं।

3 Views
श्रीभगवान बव्वा
श्रीभगवान बव्वा
63 Posts · 1.2k Views
बस कभी कभी दिल करता है तो लिख लेता हूं । शिक्षा विभाग हरियाणा में...
You may also like: