.
Skip to content

हर ग़म पी के मुस्कुरा/ग़ज़ल

दुष्यंत कुमार पटेल

दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

गज़ल/गीतिका

July 5, 2016

तड़प के जी ले मगर बेवफ़ा को मुकद्दर न बना |
हर ग़म पी के मुस्कुरा दिल को पत्थर न बना |

निगाहें शौक से किसी को अब देखा न कर |
कोरे दिल में किसी का फ़िर से तस्वीर न बना |

माना जीवन का डगर है कठिन उनके बिन यहाँ |
न रह गुमशुम ए दिल ग़म को हमसफ़र न बना |

दिखा उसे अमिट है प्यार का बंधन जहा में |
ज़िंदगी है प्रेम की नदी इसे तू ज़हर न बना |

ये दिल तेरे साथ जो कुछ हुआ उसे भूल भी जा |
फूलों की राह है उसे कांटो की डगर न बना |

तूने देख लिया क्या मिला उस बेवफ़ा के प्यार से |
जहाँ न हो कोई अपना उसे ज़िंदगी का शहर न बना |

Author
दुष्यंत कुमार पटेल
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
Recommended Posts
लब पर तेरा नाम आयें तो //ग़ज़ल
लब पर तेरा नाम आयें तो मुस्कुरा लेते है तड़प दिल की दुनिया से छुपा लेते है याद आयें तो पीते नहीं मैखाने की जाम... Read more
मुक्तक :-- ग़म का साझेदार बना मुझे .......!!
मुक्तक :-- ग़म का साझेदार बना मुझे ......!! सात जन्म की पट्टेदारी संग तेरे सौ वार लूँ ! गम का साझेदार बना मुझे हर गम... Read more
चार गज़लें --- गज़ल पर
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती है साँसों मे अक्सर गज़ल इनायत रफाकत रहाफत लिये जुबां पर गजल... Read more
उसी ने हमें अपना बना लिया
सभी से दिल लगा के देख लिया .. दुश्मनों को भी गले से लगा के देख लिया । जो मिरे थे वो मिरे न हो... Read more