.
Skip to content

हर शय में ढलने की आदत डाल रखी है

suresh sangwan

suresh sangwan

गज़ल/गीतिका

December 10, 2016

हर शय में ढलने की आदत डाल रखी है
आज तलक याद तेरी संभाल रखी है

कोई रंग भरो इसमें चुपचाप न बैठो
तस्वीर-ए-उल्फ़त कब से बे-हाल रखी है

मिलकर बतलाएँगे ए यार मेरे तुमको
कैसी -कैसी हमने मुसीबत पाल रखी है

ये और बात है के जान ही जाती रही
ए ज़िंदगी बगिया तेरी ख़ुशहाल रखी है

क्या होगा कितना होगा होगा के ना होगा
मैने ये बात वक़्त पर ही टाल रखी है

इसलिये गिराई है मेरे घर पे बिजली
आसमान वाले की कोई चाल रखी है

इस क़दर न हो उदास’सरु’तू देख खुदा ने
सूरत -ओ-सीरत क्या तिरी क़माल रखी है

Author
suresh sangwan
Recommended Posts
दीवानगी   हद   में   रही   तो  मोहब्बत  कैसी
दीवानगी हद में रही तो मोहब्बत कैसी किसी हश्र-ओ-अंजाम से डरी तो मोहब्बत कैसी छलक भी जाने दो इन आँखों के जाम अब तो पलकों... Read more
****   शेर  ******
23.1.17 रात्रि 10.5 बागे बुलबुल को अब मुस्कुराना ही होगा तुमसे मिलना अब रोज़ाना ही होगा।। अब बरखा हो कैसे बिन बादल आँखों से आंसुओ... Read more
भी होगा
लोट पास मेरे फिर आना भी होगा हाल-ए जिगर सब समझाना भी होगा मेरी प्यारे से प्रेमी बन जाओ तो कजरारी आँख में बिठाना भी... Read more
मुक्तक
हर तरफ लगी होड़ ,ये दौड़ कैसी है मानवी आधार भी ताख पर रखी जैसी है जीवन के सुखद पहलू भी नजर अंदाज कर हर... Read more