.
Skip to content

हर लम्हा खास है

rekha rani

rekha rani

गज़ल/गीतिका

February 22, 2017

मेरे दोस्त ज़िंदगी का हर लम्हा खास है।
तू हर पल इस तरह जी बस यही पल तेरे पास है।
बीता कल तो सिर्फ़ तुझको दर्द देकर जाएगा।
सिसकियाँ भरेगा तू और वह मुस्कुराएगा।परछाईयां बनके गम की न ढ़क ले उसे जो अब तेरे पास है।
आने वाला कल सिर्फ उम्मीदें जगाएगा,
बेहतर बनाने की आस में नींद भी गंवायेगा।
जी इस अंदाज़ में इस पल को तो तेरा आने वाला कल खुदबखुद बदल जायेगा।
ज़ी भर जी ले उसे जो जो तेरे पास है।
हर पल बुन तू ताबीर इस सुनहरे पल कि जो अब पास है।
पल-पल इस तरह चल जो लकीर बन जाये।
जी इस तरह ज़िन्दगी जो नज़ीर बन जाए।
हर खवाब हक़ीक़त मे बदल गुजर न जाए लम्हा भी बदले बिना।
इस बदलाव के फेर में गुजर न जाए कोई लम्हा भी मुस्कुराए बिना।
सारे बदलाव की वजह तेरी मुस्कान ही खास है।
तुझे तेरे रब ने उस हुनर से नवाज़ा है
तू बेनूर कलियों में भी रंग भर देगा।
जो बेइल्म रह गए उनको रोशन इल्मसे कर देगा।
तेरे इल्म की लौ ज़न्नत सा मुल्क कर देगी।
गरीब की झुग्गी भी रेखा इल्म से जगमग कर देगी।
उसे अपनी मेहनत और रब की रहमत का भरोसा खास है।

Author
rekha rani
मैं रेखा रानी एक शिक्षिका हूँ। मै उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ1 मे अपने ब्लॉक में मंत्री भी हूँ। मेरे दो प्यारे फूल (बच्चे) ,एक बाग़वान् अर्थात मेरे पति जो प्रतिपल मेरे साथ रहते हैं। मेरा शौक कविताये ,भजन,लेखन ,गायन,... Read more
Recommended Posts
कल
गुजरे हुवे कल पूछे कुछ ऐसे कल अभी गुजरा कंहा से फिर वापस आने की है जो बात कल नहीं, आज भी हूँ साथ हर... Read more
हर दिन एक नया इन्तेहाँ, हर रात एक नयी चुनौती, हर लम्हा एक नया गम, हर गम पर मेरी नयी मुस्कान, न तू हारता है,... Read more
जाने जाँ
दुख की घड़ियां है ,दो पल की। फिर क्यों तेरी ,आंखें छलकी ।। याद ना कर ,बातें कल की .... जाने जां  ...जाने जां ...... Read more
गज़ल (मेरे हमसफ़र )
गज़ल (मेरे हमसफ़र ) मेरे हमनसी मेरे हमसफ़र ,तुझे खोजती है मेरी नजर तुम्हें हो ख़बर की न हो ख़बर ,मुझे सिर्फ तेरी तलाश है... Read more