हर बार शिकायत हो जरूरी तो नही

हर बार शिकायत हो , जरूरी तो नहीं
हर बार खिंलाफत हो, जरूरी तो नहीं
*****************************
होतें हैं धोखे कभी कभी नजरों के भी
हर बार अदावत हो , जरूरी तो नहीं
*****************************
कपिल कुमार
15 /10/2016

अदावत………दुश्मनी

Like Comment 0
Views 164

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing