हर बात तुम्हारी अच्छी है

मैं तुम से बेहतर लिखता हूँ..
पर भाव तुम्हारे अच्छे हैं

मैं तुमसे बेहतर दिखता हूँ
पर अदा तुम्हारी अच्छी है

मैं तुमसे बेहतर गाता हूँ
पर धुन तुम्हारी अच्छी है

मैं रहता खुश हरदम हूँ
पर मुस्कान तुम्हारी अच्छी है

मैं ग़ज़ल खूब कहता हूँ
पर तक़रीर तुम्हारी अच्छी है

मैं कितना भी कुछ कहता रहूँ
पर हर बात तुम्हारी अच्छी है
(this mine poem was published in dainik bhaskar Madhurima on 04.11.2015 under Heading Tumhari Baat)

Like Comment 1
Views 381

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing