हर पल साईं बोल ऐ बन्दे

भेद जिया के खोल ऐ बन्दे
हर पल साईं बोल ऐ बन्दे
साईं – साईं …….साईं – साईं …….
साईं – साईं …….साईं – साईं …….
भेद जिया के …….

हाल हमारा साईं जाने।
साईं सबकी रग पहचाने //१.//
भेद जिया के …….

द्वार से खाली कोई न जाये ।
दुःख विरहा में हम सब आये //२.//
भेद जिया के …….

जात-पात कोई धर्म न माने ।
राग द्वेष कोई मन में न ठाने //३.//
भेद जिया के …….

ईश्वर-अल्लाह रूप उसी के ।
एक नूर से सब जन उपजे //४.//
भेद जिया के …….

बाबा से गर कोई पूछे ।
एक माल में हम सब गुंथे //५.//
भेद जिया के …….

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing