Sep 3, 2016 · शेर
Reading time: 1 minute

हर दफ़े तु………..

हर दफ़े तु मेरी निगाहों में शामिल होती है !
ये जो चाहते है मेरी तुमसे हासिल होती हैं!!

अक्सर ढूंढता हूं मैं तुम्हे फिजाओ में कही!
तु मगर मेरे कोशिशों की कातिल होती हैं!!
————//**–
शशिकांत शांडिले (एकांत), नागपूर
Mo.9975995450

15 Views
Copy link to share
SHASHIKANT SHANDILE
36 Posts · 764 Views
Follow 1 Follower
It's just my words, that's it. View full profile
You may also like: