*हर दिल अजीज हम बन पाएं *

प्रभु बस इतनी इनायत हो जाए ,
गलती से भी गलती ना हो पाए ।
सदा रहें अपनों के दिल में ,
हरदिल अजीज हम बन पाएं ।।

जो भी बोलें अच्छा बोलें ,
कानों में मिश्री सी घोलें ।
शब्दों से हम रस बरसाएं ,
हर दिल अजीज हम बन पाएं ।।

ना दुःख किसी को भी पहुंचाएं ,
कल करें सो आज कर जाएं ।
हर इक दिल में बस जाएं ,
हरदिल अजीज हम बन पाएं ।।

हर जन को सुख पहुंचाएं ,
काम कोई ऐसा कर जाएं ।
हर दिल की धड़कन बन जाएं ,
हरदिल अजीज हम बन पाएं ।।

अपने पराए का भेद मिटाएं ,
खुशियों की झड़ी लगाएं ।
एक नहीं सौ बार लगाएं ,
हरदिल अजीज हम बन पाएं ।।

कोई रहे ना अपनों के बिन ,
नफरत की दिवार मिटाएं ।
मिलजुल कर सब प्यार फैलाएं ,
हर दिल अजीज हम बन पाएं ।।

2 Likes · 702 Views
*Writer* & *Wellness Coach* ---------------------------------------------------- मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी...
You may also like: