हर दफा वो ऊँगली हम पर ही उठाता कियुं है

बिठा के पलकों पर नजरों से गिराता क्यूं है
दाव ये सारे वो हम पर ही आजमाता क्यूं है
********************************
क्या हुआ जो एक बार हम खता कर बेठे
हर दफा वो ऊँगली हम पर ही उठाता क्यूं है
********************************
कपिल कुमार
05/08/2016

3 Views
From Belgium
You may also like: