.
Skip to content

*हर खुशी माँग ली*

Dharmender Arora Musafir

Dharmender Arora Musafir

गज़ल/गीतिका

May 25, 2017

हर खुशी माँग ली दोस्तों के लिये!
खैर-मकदम किया दुश्मनों के लिये!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
प्यार से हैं सभी काम बनते यहाँ!
ज़िंदगानी नहीँ नफ़रतों के लिये!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
रोज़ धरने करें कौम के नाम पर!
ये मुनासिब है बस शातिरों के लिये!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
जल रहे हैं दिये आस के अब तलक! कोई चारा कहाँ आँधियों के लिये!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
कुरबतें बन गई हैं सभी दूरियाँ!
बंद रस्ते हुए फासलों के लिये!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
एक तरफा करें फैसला केस का!
गैर -मुमकिन है ये मुंसिफों के लिये!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
चंद लफ्जों में सारा समां बांध दो!
ये मुसाफ़िर कहे शायरों के लिए!!
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

धर्मेन्द्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
9034376051

Author
Dharmender Arora Musafir
*काव्य-माँ शारदेय का वरदान *
Recommended Posts
ज़िन्दगी यून्ही गुज़ार ली हमने।
तेरे वादों पे वार ली हमने। ज़िन्दगी यून्ही गुज़ार ली हमने।। अब तबस्सुम कहाँ से आएगी? ज़ख्म सीने उतार ली हमने।। इक रोज़ ग़लती से... Read more
खुशी
???? खुशी आत्मा की उपज है। सबको मिलती नहीं सहज है। ? कोई एक गुलाब से भी खुश हो जाता है। कोई मँहगा तोफा पाकर... Read more
अपनी खुशी गम लगती है....
अपनी खुशी भी गम लगती है किसी की जब आंख नम लगती है मजदुर दो वक्त की रोटी में चैन से सोता है अमीरों को... Read more
कैसी आज़ादी
यह कैसी आज़ादी माँग रहे यह कैसी आज़ादी का नारा है एक 'सोच' की ग़ुलाम है जुबां तुम्हारी उसी पे आज़ादी का नारा है न... Read more